Congress wins only 8 seats in Tripura Meghalaya Nagaland election results – India Hindi News | spcilvly

ऐप पर पढ़ें

त्रिपुरा, मेघालय और नागालैंड के चुनाव में भाज पा समेत कई दलों को फायदा हुआ है। त्रिपुरा में तो भाजपा की अपने दम पर फिर सरकार ब न गई है, जबकि नागालैंड में वह एनडीपीपी के साथ सत ्ता में आएगी। इसके अलावा मेघालय में भी एनपीपी संग वह सरकार ब नाने जा रही है। इस तरह पूर्वोत्तर भारत में भी उसके अच्छे दिन ज ​​​​ारी हैं। she ही है बल्कि बढ़ती ही जा रही है। इन तीन राज्यों के चुनाव का हासिल उसके लिए यह है कि वह महज 8 सीटों पर ही सिमट गई है। इनमें भी नागालैंड में तो उसकी एक भी सीट नहीं आई है। इसके अलावा त्रिपुरा में 3 और मेघालय में 5 sec ही हासिल हुई हैं।

त्रिपुरा फतह के बाद भी बदले जा सकते हैं साहा, म हिला CM पर विचार; समझें

किसी भी राज्य में वह सत्ताधारी गठबंधन का हिस् सा भी नहीं बनने जा रही। राहुल गांधी की 5 महीने की भारत जोड़ो यात्रा के बाद भी ऐसी स्थिति बनना उसके लिए चिंताजनक है। Year 2018 र 21 सीटें थीं, जो अकेले मेघालय से थीं। 5 ही विधायक रह गए हैं। इसकी वजह यह है कि राज्य के सबसे प्रभावशाली राज नीतिक परिवार के सदस्य मुकुल संगमा ने पार्टी छो ड़ दी है। हालांकि त्रिपुरा में कांग्रेस खाता खोलने में 2018

2013 में कांग्रेस ने जीती थीं 47 years, 8 years

तीनों राज्यों को मिलाकर 2018 में 21 सी टें थीं। January 10, 2013 की इन तीनों राज्यों में 47 min इनमें भी सबसे ज्यादा सीटें उसके पास मेघालय मे ं थीं और 29 सीटों के साथ वह सत्ता में थी। वहीँ 10 minutes नागालैंड में तो 201 8 years 2013 2013 8 सीटें थीं। Her name र ही है।

पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों में भी कांग्रेस का बुरा हाल, भाजपा को बढ़त

यही नहीं कांग्रेस की यह स्थिति असम, अरुणाचल और मणिपुर जैसे राज्यों में भी है। इन तीनों राज्यों में भी अब बीजेपी सरकार है। कांग्रेस के लिए यह हालात चिंताजनक हैं। एकतरफ वह उत्तर प्रदेश, बंगाल, बिहार जैसे बड़े राज्यों में वजूद के लिए जूझ रही है तो वहीं छोटे र ाज्यों में भी अब उसके आगे अस्तित्व का संकट पैद ा हो गया है। वहीं भाजपा ने ओडिशा, बंगाल और केरल से लेकर पूर् वोत्तर तक में अपनी छाप छोड़ी है, जहां कभी उसका आ धार नहीं था। 10 minutes ेजी से अपना विस्तार किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *