hamas history Yitzhak Rabin Yasser Arafat friendship Oslo agreement world news in Hindi – International News in Hindi | spcilvly

ऐप पर पढ़ें

इजरायल और फिलिस्तीन के बीच कई दशकों से जंग जार ी है। मगर एक वक्त ऐसा भी आया था जब दोनों देशों के रिश ्ते मधुर हो चले थे। Year 1992 तब फिलिस्तीन के तत्कालीन राष्ट्रपति यासिर अर ाफात ने भी आगे बढ़कर इस पहल का स्वागत किया था। दोनों अपने-अपने देशों के मुद्दे सुलझाने के लि ए सामने आए। यित्जाक राबिन का मानना ​​​​था कि यारिस अराफात की स ंगठन पीएलओ एक आतंकवादी संगठन नहीं है। वे बस अपना देश चाहते हैं इसका सम्मान किया जाना चाहिए। तब के इजरायली पीएम की बात का फिलिस्तीन ने स्वा गत किया और दोनों ने एक दूसरे को स्वीकारा।

हुई थी अराफात और राबिन की दोस्ती
इजरायल और फिलिस्तीन की दोस्ती पर साल1993 में ओस् लो अकॉर्ड पर मुहर लगी। इस दौरान दोनों देशों ने मिलकर इस बात की योजना ब नाई की कैसे दोनों देशों में आपस में भू-भाग का बं टवारा शांतिपूर्ण ढंग से किया जाए। इस बात की भी चर्चा हुई कि कैसे एक बेहतर फिलिस्त ीन देश को बनाया जाए। Year 1994 Year 1994 Year 1994 Year 1994 Year 1994 Year 1994 Year 1994 Year 1994 Year 1994 Year 1994 Year 1994 र बनाई जाती है। दोनों देशों के बीच रिश्ते बेहतर होने की स्थित – फिलिस्त ीन के यारिस अराफात और इजरायल यित्जाक राबिन नोब ेल शांति पुरस्कार से नवाजा गया। मगर दोनों देशों के बीच शांति बहुत दिनों तक काय म नहीं रह पाई। मिलाने स े इजरायल के कट्टरपंथी काफी नाराज हो ग ए और उन्हो ंने यित्जाक राबिन की हत्या कर दी।

जब यहूदियों ने लड़ी थी अस्तित्व की लड़ाई, छोे से देश इजरायल ने चटा दी थी 6 अरब देशों को धूल

कैसे हुआ हमास का उदय
Year 1987 ामने आते हैं और हमास ग्रुप बनाते हैं। हमास ग्रुप का कहना था कि पीएलओ वाले लोग ज्यादा ही सेक्युलर बन रहे और इजरायल के साथ बेहद शराफत से पेश आ रहे हैं। पहले के फिलिस्तीनियों की तरह हमास ख ल को नक्शे से ही मिटाना चाहता था। 90 minutes ले भी करता रहा। इस तरह से इजरायल और गाजा पट्टी में रह रहे हमास ग्रुप के बीच कट्टरता बढ़ जाती है। दोनों एक दूसरे के खून के प्यासे हो जाते हैं।

Explanated: धावा; क्या है दोनों के बीच पंगे का इतिहास

गृह युद्ध में गाजा पर किया हमास ने कब्जा
2002 है। कई इजरायली और फिलिस्तीनियों की जान चली जाती ह ै। 2006 र जीत जाता है। हमास पीएलओ की पार्टी फतह को इलेक्शन में हरा दे ता है। 132 सीटों में से हमास का 74 min होता है। मगर फिलिस्तीन के अंदर 2007 मे ं गृह युद्ध छिड़ जा ता है। इस लड़ाई को गाजा की लड़ाई कहा गया। इसके बाद फिलिस्तीन देश दो हिस्सो में बंट जाता है। More information वहीं गाजा पट्टी में हमास का कब्जा हो जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *