India Canada Tension Joe Biden Close Eye Justin Trudeau Claims Truth Will US Stab in the Back – International News in Hindi | spcilvly

India Canada Tension: भारत और कनाडा के बीच उपजे विवाद पर अमेरिकी राष ्ट्रपति जो बाइडन की करीब से नजर है। बाइडन प्रशासन के अधिकारियों को चिंता है कि दो नों देशों के बीच टेंशन इंडो-पैसिफिक की अमेरिआ रणनीति पर असर डाल सकती है। सारध ानमंत्री जस्टिन ट्रूडो द्वारा लगाए गए आर ोपों को लेकर लगभग सहमत है। अमेरिकी अधिकारियों ने भी बार-बार भारत से जांच में सहयोग करने का आग्रह किया है। हालांकि, भारत इन आरोपों से इनकार करता रहा है।

पर्दे के पीछे अमेरिकी अधिकारियों का कहना है क ि उनका मानना ​​​​है कि ट्रूडो के दावे सच हैं। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि भारत को अपना करीबी बत ाने वाला अमेरिका क्या आने वाले समय में पीठ पर छु What’s wrong with you? अमेरिकी अधिकारियों को चिंता है कि भारतीय प्रध ानमंत्री विदेशी धरती पर विपक्षी लोगों को चुप क राने के लिए रूस, ईरान, सऊदी अरब और उत्तर कोरिया क ी तरह ही रणनीति अपना रहे हैं, जिनमें से सभी को स म ान आरोपों का सामना करना पड़ा है । – भारत विवाद का प्रशासन की मुख्य विदेश नीति प्रा थ मिकताओं में से एक पर बड़ा प्रभाव पड़ सकता है जो कि इंडो-पैसिफिक रणनीति है। यह रणनीति क्षेत्र में चीन की बढ़ती ताकत का मिल कर मुकाबला करने के लिए बनाई गई है।

बढ़ती चीनी आक्राय त्रिक मोर्चा पेश करने के अमेरिकी नेतृत्व वाले प्रयासों के लिए कनाडा और भारत दोनों महत्वपूर् णहैं। यूक्रेन में के युद्ध का मुकाबला करने के अल, बाइडन प्रशासन का अधिक ध्यान प्रतिस्प र्धी के रूप में और उससे उत्पन्न होने वाले सं भावित अंतरराष्ट्रीय खतरे से से निपटने निपटने पर रहा है है है है है है है है है है है इह नयिक प्रयासों को बढ़ावा दिया है, जिसमें एक क्वा ड ग्रुप बनाना भी शामिल है, जिसके तहत ऑस्ट्रेलिय ा, जापान, भारत और अमेरिका को एक साथ आते हैं। राष्ट्रपति जो बाइडन ने क्वाड के ख ास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बताया है।

रूस और ब्रिटेन की तरह न बढ़ जाए भारत-कनाडा मामल ा
डर है कि भारत और कनाडा का यह विवाद कहीं रूस और ब 2018 ैंड के सैलिसबरी में पु स् क्रिपल और उनकी बेटी को जहर देने की बात सामने आ ई थी। उस मामले में ब्रिटेन ख 23 रूसी राजनयिकों क ो देश से निष्का सित कर दिया। इसने अपने नाटो सहयोगियों और यूरोपीय साझेदारो ंसे भी इसी तरह की कार्रवाई की मांग की, जिस पर लग भ ग सभी सहमत हुए। अपनी ओर से अमेरिका ने 60 रूसी राजनयिकों को निष् कासित कर दिया और अपने ब्रिटिश सहयोगी के साथ एकज ुटता दिखाते हुए सिएटल में रूस के वाणिज्य दूताव ा स को बंद करने का आदेश दिया। More information शामिल था।

US ाडा
पिछले महीने ट्रूडो द्वारा अपने आरोपों को सार् वजनिक करने और एक वरिष्ठ भारतीय राजनयिक क् कासि More information ने प . और अनुरोध करने का निर्णय ले सकता है , 2018 था । उसके सहयोगियों को भी ऐसा ही करना होगा। ” में भारतीय राजनयिकों को निष्कासित करने के लिए कहा, तो अमेरिका के पास उसका पालन करने के अलावा क ोई विकल्प नहीं होगा। इसके परिणामस्वरूप, अमेरिकी-भारत संबंधों में द रार आ सकती है और संभावना है कि भारत या तो क्वाड क े साथ अपना सहयोग कम कर सकता है या पूरी तरह से बा ह र हो सकता है।”

ट्रूडो के सामने पीएम मोदी ने उठाया था खालिस्त ान का मुद्दा
More information ट ी पॉलिसी इंस्टीट्यूट में अंतरराष्ट्रीय सुरक ् षा और कूटनीति के उपाध्यक्ष हैं ने कहा कि यह एक ऐस ी स्थिति है जिसे मैं निश्चित रूप से देख रहा ह ूं। बता दें कि हत्या में भारतीयों की संलिप्तता के mino ठ द्वारा समर्थित किया गया था। कनाडा द्वारा आरोपों को सार्वजनिक करने से पहले ही, पिछले महीने नई दिल्ली में जी-20 की बैठक के दौर ान ट्रूडो की पीएम मोदी के साथ तीखी वार्ता हुई थ , ् दे पर जमकर सुनाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *