New tax regime vs old tax regime Now not CA, the calculator will tell you which tax regime will be beneficial | spcilvly

सरकार ने आम लोगों को उनकी इच्छा और सुविधा के हि साब से निवेश करने की आजादी दी है। निवेश अब टैक्स बचाने की मजबूरी नहीं रहेगी। इससे सरक I am served यक्ष नितिन गुप्ता ने हिन्दुस्तान के साथ खास बात चीत में यह कहा है कि आयकर पोर्टल पर ही ऐसे कैल्क ुलेटर की व ्यवस्था की जाएगी जिससे करदाता खुद ही अ फिर पुरानी।

इस स्कीम की जरूरत पर सीबीडीटी चेयरमैन ने कहा क ि सरकार की मंशा लोगों को निवेश की आजादी देने की थी। She म ें निवेश किया जाए। More than 60 people नई स्कीम की तरफ आई है।

ऐसा आपका काम आसान करेगा टैक्स कैल्कुb

सीबीडीटी चेयरमैन ने कहा कि नई व्यवस्था में लो गों को कुछ जोड़ घटाव करने की जरूरत ही नहीं है क् य ोंकि इसमें पुराने के मुकाबले च है। फिर भी इस प्रस्तावित स्कीम को लेकर हम आयकर पोर ्टल पर एक कैल्कुलेटर भी लेकर आएंगे जो पुरानी और नई स्कीम के अंतर को व्यक्तिगत आधार पर बता सके। इसके बाद लोग अपने हिसाब से फायदा नुकसान का अंद ाजा लगाते हुए स्कीम चुन सकेंगे।

यह भी पढ़ें: New income tax slab: ा होगा इनकम टैक्स

कभी भी नई पुरानी-स्कीम में जाने का विकल्प

एक बार नई स्कीम में आ जाने के बाद करदाता कभी भी पुरानी स्कीम में जा सकते हैं या नहीं के सवाल पर सीबीडीटी चेयरमैन ने कहा कि करदाता अपनी हर साल क े हिसाब से टैक्स की दोनों व्यवस्थाओं में से किस ी को भी चुन सकते हैं। कारोबारियों के लिए विकल्प केवल एक ही बार है ले किन नौकरीपेशा के लिए विकल्प चुनने की कोई सीमा न हीं है।

सिर्फ दो दिन में आ जाएगा रिफंड

करे क More than 16 years न पर आ गया है। विभाग नए टैक्स इनफॉर्मेशन नेटवर्क पर काम कर र हा है। इससे रिफंड जल्दी खाते में पहुंचेगा। January 31, 2023 ध गेंग े।

टैक्स कम रहने से वसूली बढ़ेगी

नई व्यवस्था को आकर्षक बनाने के लिए टैक्स कम रख ा गया है। इससे जो घाटा होगा उसकी भरपाई के लिए भी सरकार की तैयारी स्पष्ट है। सीबीडीटी चेयरमैन ने कहा कि सरकार टैक्स व्यवस् था को आसान बना रही है। इससे आने वाले दिनों में टैक्स देने वाले लोगों का दायरा बढ़ेगा। साथ ही प्रभावी उपायों से टैक्स चोरी रुकी है आन े वाले दिनों में इसे और बेहतर किया जाएगा। इससे ज्यादा टैक्स इकट्ठा होगा। More than 16.5 million dollars 18.23 लाख 2 ो ड़ रुपये है।

स्क्रिुटनी से कानूनी मामले घटेंगे

टैक्स रिटर्न की जो भी स्क्रिुटनी हुई है उसके आ ंकड़ों में काफी सकारात्मक बात निकलकर सामने आई है। सीबीडीटी चेयरमैन ने कहा कि हमने अपडेटेड रिटर् न की स्कीम शुरू की है। जिसमें करदाता के रिटर्न के बाद हम उसे बताते है ं कि कहीं उसमें कोई गड़बड़ तो नहीं रह गई है। 10 लाख लोगों ने पे नाल्टी के साथ अपडेटेड रिटर्न दा खिल किए हैं। इसकी वजह से टैक्स विभाग के कानूनी मामले घटेंग े।

गुप्ता ने कहा कि टैक्स विभाग करदाता की दी गई जा नकारी पर पूरा भरोसा करती है। हम एक फीसदी से भी कम मामलों की स्क्रुटनी करते ह ैं। टैक्स चोरी से जुड़े मामलों में ज्यादातर गलत छ ूट क्लेम करना, गलत खर्च दिखाना और गलत स्कीम का फ ा यदा लेने जैसे मामले आते हैं। हालांकि, हम पहले के मुकाबले जीएसटी और दूसरे तम ाम विभागों से आंकड़े साझा करते हैं। इससे चोरी पकड़े जाने की गुंजाइश काफी बढ़गई है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *